JavaScript must be enabled in order for you to use the Site in standard view. However, it seems JavaScript is either disabled or not supported by your browser. To use standard view, enable JavaScript by changing your browser options.

| Last Updated:14/11/2018

Latest News

Archive

पौंग पहुंचे एक लाख विदेशी मेहमान

नए साल का आगाज होने तक पौंग झील में रिकार्ड 80 प्रजातियों के एक लाख प्रवासी पक्षियों ने डेरा जमा लिया है। पहली जनवरी शाम पांच बजे तक मेहमान पक्षियों की संख्या का आंकड़ा एक लाख को छू गया है। अहम है कि इस बार जनवरी शुरू होते ही ही 80 प्रजातियां पौंग झील में पहुंच गई हैं। कांगड़ा जिला के इस अंतरराष्ट्रीय वैटलैंड में अब तक कुल 113 प्रजातियों के आने का रिकार्ड दर्ज है। सबसे ज्यादा प्रजातियां और प्रवासी पक्षियों के झुंड जनवरी से मार्च माह के दरमियान आते हैं। लिहाजा इस बार पहली जनवरी तक 80 प्रजातियों तथा एक लाख पक्षियों का पौंग झील में पहुंचना अहम माना जा रहा है। डीएफओ वर्ल्ड लाइफ हमीरपुर सुरेश पराशर ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि पहली जनवरी तक पहुंची 80 प्रजातियों में कितनी नई हैं, इसकी पहचान अगले माह होगी। इसके लिए फरवरी माह में वन्य विभाग विशेष अभियान शुरू कर पक्षियों की गणना तथा इनकी प्रजातियों की बारीकी से पहचान करेगा। उनका कहना है कि 31 दिसंबर शाम पांच बजे तक पौंग झील में कुल 97359 प्रवासी पहुंचे हैं। इनमें नगरोटा सूरियां में 64119 तथा धनेटा रेंज में 33240 प्रवासी दर्ज हुए हैं। पहली जनवरी शाम तक यह आंकड़ा एक लाख तक पहुंच गया है। इनमें वार हैडेड गूज प्रजाति के सर्वाधिक 40750 प्रवासी पक्षी पौंग वैटलैंड में पहुंचे हैं। इनमें 26950 नगरोटा सूरियां तथा 13800 धनेटा रेंज में पहुंचे हैं। इसके बाद नार्दन पिनटेल प्रजाति के 10 हजार से अधिक पक्षी आए हैं। इनमें नगरोटा सूरियां की रेंज में 6365 तथा धनेटा रेंज में 3650 प्रवासी पक्षी पहुंचे हैं। कामनकूट प्रजाति के 8215 प्रवासी वैट लैंड में दस्तक दे चुके हैं। इनमें 5015 नगरोटा सूरियां तथा 3200 धनेटा रेंज में पहुंचे हैं। लिटल कौरमारेंट प्रजाति के 2825 नगरोटा सूरियां तथा 1200 धनेटा रेंज में आए हैं। कॉमनटील प्रजाति के चार हजार पक्षी नगरोटा सूरियां तथा डेढ़ हजार धनेटा रेंज में पहुंचे हैं।

Divya Himachal (02-01-2014)